Republic Day Essay In Hindi | गणतंत्र दिवस पर निबंध

26 January Republic Day Essay hindi

गणतंत्र दिवस पर निबंध | Essay on Republic Day in Hindi | Republic DAY Essay 2018.

आज की इस पोस्ट में मै आपके साथ Republic day पर निबंध share कर रहा हूँ उम्मीद है कि आपको ये निबंध पसंद आयेगा तो चलिए शुरु करते हैं और Republic Day Essay in Hindi जानते हैं।

Republic Day Essay In Hindi | गणतंत्र दिवस पर निबंध

26 January Republic Day Essay hindi
26 January Republic Day Essay hindi

गणतंत्र दिवस भारत के राष्ट्रीय पर्वो में से एक है इस दिन भारत का संविधान लागू किया गया था। 26 जनवरी इस तारीख को गणतंत्र दिवस के लिए इसलिए चुना गया क्योंकि इस दिन कांग्रेस पार्टी ने भारत को स्वतंत्र घोसित कर दिया था।

दोस्तो ये दिन भारत का सबसे महत्वपूर्ण दिन माना जाता है क्योकि इस दिन भारत का अपना सविधान लागू किया था जो को भारत के लिए बड़ी गौरव की बात है इस दिन भारत के हर एक विभाग का अवकाश रहता है इस दिन लोग खाफी मजे करते है।भारत के हर एक जगह पर इस दिन काफी चहल पहल रहती है भारत की की हर एक जगह को इस दिन सजाया जाता है।

गणतंत्र दिवस भारत का राष्ट्रीय पर्व है । यह दिवस भारत के गणतंत्र बनने की खुशी में मनाया जाता है । 26 जनवरी, 1950 के दिन भारत को एक गणतांत्रिक राष्ट्र घोषित किया गया था । इसी दिन स्वतंत्र भारत का नया संविधान अपनाकर नए युग का सूत्रपात किया गया था । यह भारतीय जनता के लिए स्वाभिमान का दिन था । संविधान के अनुसार डॉ. राजेन्द्र प्रसाद स्वतंत्र भारत के प्रथम राष्ट्रपति बने । जनता ने देश भर में खुशियाँ मनाई । तब से 26 जनवरी को हर वर्ष गणतंत्र दिवस के रूप में मनाया जाता रहा है ।

26 जनवरी का दिन भारत के लिए गौरवमय दिन है । इस दिन देश भर में विशेष कार्यक्रम होते हैं । विद्‌यालयों, कार्यालयों तथा सभी प्रमुख स्थानों में राष्ट्रीय झंडा तिरंगा फहराने का कार्यक्रम होता है । बच्चे इनमें उत्साह से भाग लेते हैं । लोग एक-दूसरे को बधाई देते हैं । स्कूली बच्चे जिला मुख्यालयों, प्रांतों की राजधानियों तथा देश की राजधानी के परेड में भाग लेते हैं । विभिन्न स्थानों में सांस्कृतिक गतिविधियाँ होती हैं । लोकनृत्य, लोकगीत, राष्ट्रीय गीत तथा विभिन्न प्रकार के कार्यक्रम होते हैं । देशवासी देश की प्रगति का मूल्यांकन करते हैं ।

दिल्ली में इस दिन काफी अच्छी परेड होती है राष्ट्रपति लाल किले पर ध्वजा रोहण करते है परेड में काफी बड़ी बड़ी हस्तियां आती है तथा परेड का लुफ्त उठाती है परेड में भारत की संस्कृतियों की झांकिया बनती है ये परेड करीबन 4 या 5 घंटे चलती है जिसके अंदर भारत की वायु सेना थल सेना आदि की शक्ति बताई जाती है।

गणतंत्र दिवस का समारोह विशेषकर स्कूल कॉलेजो आदि में मनाया जाता है इस दिन स्कूलों में कई तरह के function आयोजित किये जाते है जिसमे अध्यापक बच्चो को ज्ञान देते है ताकि उनकी knowledge ओर बड़े।इस दिन स्कूल ने नाटक डांस आदि भी बच्चो द्वारा आयोजीत किये जाते है जिसमे वे अपना बेस्ट देते है कि स्कूलों में फिल्मी गानों पर डांस किया जाता है तो कई स्कूलों में देशभक्ति गानो पर डांस किया जाता है इस दिन स्कूलों में chif guest भी आये हुए होते है जो बच्चो का मार्गदर्शन करते है तथा बच्चे इनके सामने के अच्छे अच्छे नाटक दिखाते है। इन्हें देखने के लिए बहुत लोग आते है तथा इनका लुफ्त उठाते है।

कॉलेज में भी बहुत से fuction आयोजित किये जाते है जिनकी तैयारी बच्चे कई महीनों पहेले ही शुरू कर देते है। रात के समय राष्ट्रपति भवन संसद भवन तथा अन्य सभी प्रमुख सरकारी भवन विधुत भवन की अनोखी छटा का प्रदर्शन किया करते है रंगारंग आतिशबाजी भी चलाई जाती है इस प्रकार सभी तरह के आयोजन भारतीये गणतंत्र की गरिमा और गौरव के अनुरूप ही हुआ करते है।उन्हें निहार कर प्रत्येक भारतीये का सीना गर्व से भरकर कहने को बाध्य हो उठा करता है।

दिन स्कूल कॉलेजो में भारत को स्वतंत्र करने वाले शहीदो को श्रद्धांजलि दी जाती है था उन्हें याद किया जाता है इस दिन hospital आदि के ऊपर भी ध्वज रोहण किया जाता है।सन् 1929 दिसम्बर को भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का अधिवेसन लाहौर में पंडित जवाहर लाल नेहरू की अध्यक्षता में हुआ।

जिसमें ये घोषणा कर दी गयी कि 26 जनवरी 1930 को यदि अंग्रेज सरकार भारत को डोमिनियन का पद नही प्रदान करेगी तो भारत को स्वतंत्र घोसित कर दिया जाएगा। जब अंग्रेज सरकार ने 26 जनवरी 1930 ने कुछ नही किया तब कांग्रेस ने उस दिन भारत की पूर्ण स्वतंत्रता की घोषणा की ओर अपना सक्रिय आंदोलन आरंभ कर दिया जब से 1947 स्वतंत्रता प्राप्त होने तक 26 जनवरी स्वतंत्रता दिवस के रूप में मनाया जाता रहा। उस दिन से 1947 में स्वतंत्रता प्राप्त होने तक 26 जनवरी स्वतंत्रता दिवस के रूप में मनाया जाता रहा।

ओर जब 15 अगस्त 1947 को भारत स्वतंत्र गया तो ये दिन स्वतंत्रता दिवस कहलाया। परंतु इसके तीन साल बाद तक भी अंग्रेजो का संविधान चला जिसे 26 जनवरी को हटा दिया गया और भारत का सविधान लागू किया गया जब से इस दिन को गणतंत्र दिवस के रूप में मनाया जाता है|

—–+———-+———+———-+—-++++————–

तो दोस्तो मुझे उम्मीद है कि आपको ये 26 जनवरी यानी कि Republic Day essay निबंध पसंद आया होगा अगर हाँ तो इसे share कीजिए और जाते जाते comment करके ये भी बताइए कि आपको ये Republic Day Essay in Hindi की पोस्ट कैसी लगी।

About the author: Indi New

वेलकम to Indi New- indias hindi site हमारा प्रयास हमेशा से ही यही रहा है की हम आपके लिए ज्यादा से ज्यादा जानकारी हिंदी में प्रदान करे। सारी जानकारी आपकी पसंदीदा भाषा हिंदी में हो इसका हमने खयाल रखा है।. किसी जानकारी में अगर आपको कोई दिक्कत हो, तो कृपया हमसे संपर्क करे।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *